Saturday, 19 February 2011

अरू का अंग्रेज़ी ज्ञान

अरण्य को बहुत अच्छा लगता है जब उसे किताबों से कहानियां पढ़ कर सुनाई जाएं लेकिन किताब दिखा कर ही अगर उसे अ-आ, क-ख, एबीसीडी या एकदोतीन सिखाने की कोशिश करो तो उसे पसंद नहीं आता। बहरहाल कुछ दिन पहले जब मैं अरण्य को चिढ़ाने के लिहाज़ से वन्या से कह रही थी कि, “देखो अरू को एबीसीडी भी नहीं आती, पता नहीं इसका स्कूल में एडमिशन कैसे होगा।
"आती है जी," तपाक से जवाब देते हुए अरू महाशय बोले कि मुझे पूरे दस तक एबीसीडी आती है।" उसके इस लाजवाब कर देने वाले जवाब के बाद मैं और वन्या एक दूसरे का मुंह देख रहे थे। ज़ाहिर है कि उसे पता था कि गिनती या एबीसीडी में से कोई चीज़ तो दस तक आनी चाहिए तो एबीसीडी ही सही।



कुछ दिन पहले हम अपने एक दोस्त के घर पर थे तो उनकी किशोरवय बेटी ने मुझसे आ कर पूछा, "मौसी अरू इतनी ज़ल्दी पढ़ना कैसे सीख गया?" मैंने जवाब दिया, “नहीं तो …वह तो अभी हिंदी अंग्रेज़ी अक्षर तक नहीं पहचान पाता...क्यों पूछ रही हो?
"अरे मैंने उसे बिस्कुट का पैकेट पकड़ाया तो बहुत ध्यान से रैपर पढ़ते हुए उसने कहा कि ये तो ब्रिटेनिया का गुडडे बिस्कुट है, मुझे कोई दूसरा दो। जब उसने पूछा कि तुम्हें कैसे पता तो उसने जहां रैपर पर लिखा था उसे हिज़्जों में बांट कर पढ़ने के अंदाज़ में बोला देखो लिखा है ना ब्रि...टे...नि...या।" फिर नीचे पढ़ कर दिखाया कि, "देखो ये लिखा है गु..ड...डे"। तीन साल के बच्चे को इतना आत्मविश्वास के साथ पढ़ते देख कर उसे यकीन नहीं हुआ इसलिए उसने उसने एक चॉकलेट निकाल कर पूछा, "अच्छा बताओ इसमें क्या लिखा है?" तुरंत जवाब आया, "कैडबरी डेयरी मिल्क"!


अरू की प्रतिभा से वह इतनी प्रभावित हो गई कि तुरंत मेरे पास पुत्र प्रशंसा हेतु पहुंच गई। तब मैंने उसके ज्ञान चक्षु खोलते हुए बताया कि, "बेटा जब एक दिन वन्या के पिता जी उसे तरह-तरह की चीज़ें बनाने वाली कंपनियों, उनके ब्रांड और उनके विज्ञापनों का गोरखधंधा समझाने के लिहाज से बिस्कुट, चॉकलेट, टॉफी और साबुन जैसी चीज़ों का उदाहरण दे रहे थे तो अरण्य जी भी ध्यान से सुन रहे थे। इसलिए अब घर पर जब भी कोई चीज़ आती है अरण्य वन्या से या किसी से भी उसका नाम बाकायदा कहां पर क्या लिखा है, करके पूछ लेते हैं और अक्सर दूसरों के सामने अपने इस ज्ञान का प्रदर्शन बहुत शानदार तरीके से करते हैं। हमारे घर पर क्योंकि टीवी नहीं है इसलिए जब भी कहीं दूसरी जगह टीवी देखने का मौका मिलता है तो अपनी जानी-पहचानी चीज़ों के विज्ञापन देख कर वह खुश हो उठता है, "देखो दीदी, अंकल चिप्स..टीवी में भी आ रहा है।"

No comments:

Post a comment